Other


मर्ज-ए-मुसीबत का मंत्र हैं माफी
Other
माफी

बहाद्दुर वो नही जो किसी को उठाकर पछड़ दे
बहाद्दुर तो वो है जो पछड़ने का वक़्त आये तो माफ़ करदे

माफ़ी सबसे अच्छा बदला है!
माफ़ वाही करता है जिसमे दिल हो!

माफ़ी कर देना मर्दानगी की निशानी है!
माफ़ी ही एक ऐसी शह हैं जिससे दुश्मन पनपते नही!

माफ़ करने वाला कभी ख़ौफ़जदा नही रहता!

कुदरत हमारी लाखो नाफ़रमानीयों और गुनाहों के बावजूद भी हमे बार बार माफ़ करती है और फिर से सम्भलने का मौका देती है  तो फिर भला हम क्यों माफ़ी देने में पीछे रहे हमे भी सबके छोटे मोटे क़सूर माफ़ कर देना चाहिए।






Comments



( अगली खबर ).